WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now

सरसों की कीमत हुई स्थिर, सरसों के भाव कब तक बढ़ सकते हैं?, तेजी मंदी रिपोर्ट

Mustard Price: सरसों की कीमत हुई स्थिर, सरसों के भाव कब तक बढ़ सकते हैं?, तेजी मंदी रिपोर्ट

 

बीते हफ्ते जयपुर सरसों की कीमत 6075 रुपए प्रति क्विंटल पर खुला जो सप्ताह के अंतिम दिन यानी शनिवार की शाम को 6075 रुपए प्रति क्विंटल पर बंद हुआ। यानी बीते हफ्ते में सरसों का भाव स्थिर रहा।

ऊँचे में कमजोर डिमांड से सरसो तेल में सिमित दायरे का कारोबार किया। घटे में बिकवाली भी कमजोर रहने से गिरावट पर लगाम। जुन में कमजोर क्रशिंग से सरसो तेल स्टॉक सिमित बताई जा रही है।

सोया के साथ बड़े अंतर के चलते सरसो की डिमांड रहेगी कमजोर। डिमांड निकलने के लिए सरसो तेल में 5-6 रुपये/किलो की गिरावट या सोया तेल में 5-6 रुपये किलो तेजी जरुरी। सोया तेल में बढने का ठोस कारण नहीं इसलिएसरसो तेल को ही निचे आना पड़ेगा।

सरसो खल

लोकल और एक्सपोर्ट डिमांड कमजोर रहने से सरसो खल में भी गिरावट आई। मई महीने में भारत से सरसो डीओसी निर्यात42.26% गिरकर 1.33 लाख टन रह गया। अन्य खल की कड़ी प्रतिस्पर्था और सस्ते विकल्प के चलते डिमांड कमजोर इसलिए तेजी की उम्मीद कम।

सरसो तेजी मंदी

सरसो तेल और खल की कमजोरी से सरसो में भी आई गिरावट। अधिकतर मंडियों में 50-75 रुपये/ क्विटल की गिरावट दर्ज की गई।

हाफेड की बिकवाली निरंतर जारी है। वहीं नाफेड की खरीदारी अब् पूरी हुई। मंडियों में औसतन’5 लाख बोरी की दैनिक आवक जारी है। नाफेड की बिकवाली तक बड़ी तेजी मंदी की गुजाइश नहीं।

सरसों के भाव कब तक बढ़ सकते हैं?

जयपुर सरसो भाव 6050 का सपोर्ट है। जिसके निचे जाते ही खरीदारी का एक और मौका मिलेगा। वहीं अगली तेजी दिवाली से पहले दिखेगी। इसलिए 5700-5800 की रैंज में खरीदारी की और गिरावट खरीदारी का अवसर। व्यापार अपने विवेक से करें।

 

इसे भी पढ़ें 👉राजस्थान प्रदेश के कई जिलों होगी भारी बारिश, जानें मौसम विभाग के अनुसार आज का मौसम कैसा रहेगा

इसे भी पढ़ें 👉 मध्य प्रदेश राज्य में मानसून पहुंचने से मौसम हुआ ठंडा, जाने मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार आज कहां होगी बारिश

इसे भी पढ़ें 👉धान की फसल में बकानी रोग के लिए क्या लगाएं? जानें रोकथाम कैसे करें

नोट 👉  आज इस रिपोर्ट में आपने देखा सरसों तेजी मंदी रिपोर्ट आगे और मौजूदा बाजार भाव (सरसों का भाव भविष्य 2024)। किसी भी फसल में तेजी या मंदी आने वाले मौसम पर निर्भर करेगा। ऐसे में व्यापार अपने विवेक से करें। व्यापार में लाभ हानि के लिए आप खुद जिम्मेवार होंगे हम नहीं।

Leave a Comment